fbpx
Online Registration for Admission in Session 2024-25    |    Pre-Admission Test Syllabus For Session 2024-25    |    Invites Applications For Vacancies    |    Online Admission Fee Payment(2024-25)

News

Holi Celebrations at School- Mar 04, 2023

दिनांक 4 मार्च,2023 को हरियाणा प्रोग्रेसिव स्कूल कॉफ्रेंस तथा सहोदय स्कूल- कॉम्प्लेक्स फरीदाबाद एजूकेशनल चैप्टर के संयुक्त तत्वाधान में, दिल्ली पब्लिक स्कूल ग्रेटर फरीदाबाद के भव्य प्रांगण में होली मिलन समारोह ‘जश्न-ए -रंग’ बहुत धूमधाम और हर्षोल्लास से मनाया गया। इस शुभ अवसर पर विशिष्ट अतिथियों के रूप में तिगांव विधानसभा क्षेत्र से विधायक श्री राजेश नागर जी ,साईं धाम सोसाइटी के चेयरमैन श्री मोतीलाल जी , विद्यालय के प्रोo वाइस चेयरमैन श्री रोहित जैनेंद्र जैन, फरीदाबाद के प्रमुख विद्यालयों के प्रधानाचार्य एवं शिक्षाविद तथा विभिन्न सामाजिक कार्यों एवं शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाले प्रख्यात गणमान्य अतिथि उपस्थित थे। विद्यालय के प्रोo वाइस चेयरमैन श्री रोहित जैनेंद्र जैन तथा माननीया प्रधानाचार्या श्रीमती सुरजीत खन्ना द्वारा समस्त उपस्थित गणमान्य अतिथियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ सितार वादन से हुआ जिसने सभी का मन मोह लिया। प्रधानाचार्या श्रीमती सुरजीत खन्ना ने अपने स्वागत-संबोधन में कहा कि रंगों का पर्व होली नई उम्मीद, नई शुरूआत, नए अवसर का त्योहार है जिसे बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाना चाहिए और दिल्ली पब्लिक स्कूल ग्रेटर फरीदाबाद स्कूल का एकमात्र लक्ष्य विद्यार्थियों को शिक्षा के नए अवसर प्रदान करना रहा है और विद्यालय इस कार्य में सदैव ही अपना महत्वपूर्ण योगदान देता रहा है। “हरियाणा प्रोग्रेसिव स्कूल कॉफ्रेंस” तथा “सहोदय स्कूल- कॉम्प्लेक्स फरीदाबाद एजूकेशनल चैप्टर” उन स्कूलों का समूह है, जो स्कूली शिक्षा में पठन-पाठन के सर्वश्रेष्ठ तरीकों और नवाचार रणनीतियों को साझा करने के लिए स्वैच्छिक रूप से एकजुट होकर विद्यालयों का संपूर्ण विकास करते हैं। “हरियाणा प्रोग्रेसिव स्कूल कॉफ्रेंस” के उपाध्यक्ष श्रीमान सुरेश चंद्रा जी ने भी दिल्ली पब्लिक स्कूल ग्रेटर फरीदाबाद विद्यालय की ओर से होली उत्सव के शानदार आयोजन में सहयोग के लिए तथा इस प्रयास की सफलता में अपना योगदान देने की मुक्त कंठ से सराहना की। उन्होंने कहा कि होली का पावन त्योहार सभी भारतीयों को  एकता के धागे में पिरोता है और सद्भावना का संदेश देता है। हमें भी इसी प्रकार एकजुट होकर शिक्षा में नवाचारी प्रयोगों द्वारा विद्यार्थियों के जीवन को एक नई दिशा देने में अपना योगदान देना है।

होली के उपलक्ष्य में संपूर्ण विद्यालय परिसर को फूलों से सजाया गया था जो अत्यंत मनमोहक लग रहा था। विद्यालय का यह सुसज्जित प्रांगण एक नई ही छटा बिखेर रहा था और सभी के आकर्षण का केंद्र था। सभी गणमान्य अतिथियों द्वारा विद्यालय सुसज्जा की मुक्तकंठ से प्रशंसा की गई। इस समारोह में विद्यालय के प्रतिभाशाली शिक्षक-समूह ने ‘आज बिरज में होली रे रसिया’ गीत की प्रस्तुति दी और अपनी सुर-लहरी से सभी को भाव विभोर कर दिया। इस संगीतमय प्रस्तुति ने सभी को वृंदावन की होली की याद दिला दी। विद्यालय के प्रतिभावान शिक्षक नर्तकों द्वारा ‘धूलिवंदन’ नामक ’शिव तांडव’ ,’होली खेलें रघुवीरा’ तथा ‘मेरा मुर्शिद खेले होली’ आदि गीतों पर मनमोहक नृत्य-प्रस्तुतियाँ दी गईं। ‘शिव तांडव और सूफी कथक का समन्वय देखकर सभी गणमान्य अतिथि मंत्रमुग्ध हो गए। इन नृत्य -प्रस्तुतियों ने कार्यक्रम को होली के रंगों से रंग दिया और सभी के द्वारा उनके नृत्य की सराहना की गई। इस सुअवसर पर हास्य कवि सम्मलेन का भी आयोजन किया गया जिसमें राष्ट्रपति पुरस्कार व काका हाथरसी पुरस्कार से सम्मानित प्रसिद्ध कवि श्री वेद प्रकाश वेद जी , भारतेंदु नाट्य अकादमी की निवर्तमान अध्यक्ष व निराला सम्मान, महादेवी वर्मा सम्मान आदि अनेक पुरस्कारों से सम्मानित प्रख्यात कवयित्री डॉo सरिता शर्मा जी तथा श्रृंगार व हास्य रस की जानी – मानी कवयित्री श्रीमती ममता शर्मा जी ने अपनी कविताओं से सभी का मन मोह लिया और संपूर्ण प्रांगण तालियों की गड़गड़ाहट से गूँज उठा। सूफी गायकों ने अपनी गायकी से ऐसा समाँ बाँधा कि सभी संपूर्ण वातावरण ही सूफियाना हो गया। सभी गणमान्य अतिथियों ने होली के गीतों पर झूमते हुए फूलों की होली खेली तथा ढोल की धुन पर सभी के पाँव थिरक उठे। विद्यालय के प्रोo वाइस चेयरमैन श्री रोहित जैनेंद्र जैन ने सभी गणमान्य अतिथियों का कार्यक्रम में पधारने के लिए धन्यवाद किया और कहा कि हमारा देश पुरातन काल से ही उत्सवधर्मी रहा है । कोरोना के लगभग तीन साल बाद आज हम सभी हर्षोल्लास के साथ एकजुट होकर होली मना रहे हैं। होली सिर्फ रंगों का ही त्योहार नहींं है बल्कि यह सामाजिक समरसता एवं आपसी सौहार्द का प्रतीक है, यह पर्व आपसी आत्मीयता एवं सहभागिता का अनूठा पर्व है। इस त्योहार का सजीव चित्रण तभी संभव है जब हम अपनी अच्छी सोच एवं सकारात्मक विचारों को उन्नतशील बनाएं। उन्होंने सभी को होली पर्व की शुभकामनाएँ दी।